| |

Craxme.com

 Forgot password?
 Join
View: 284|Reply: 0
Collapse the left

[Hindi] Few Books By Yashpal in Hindi

[Copy link]
Post time: 4-1-2019 15:41:09
| Show all posts |Read mode
Edited by suunil31 at 4-1-2019 03:41 PM

ABOUT AUTHOR
Yashpal (3 December 1903 – 26 December 1976) was a Hindi-language author who is sometimes considered to be the most gifted since Premchand. A political commentator and a socialist who had a particular concern for the welfare of the poor and disadvantaged, he wrote in a range of genres, including essays, novels and short stories, as well as a play, two travel books and an autobiography. He won the Hindi-language Sahitya Akademi Award for his novel, Meri Teri Uski Baat in 1976 and was also a recipient of the Padma Bhushan.
Yashpal's writings form an extension to his earlier life as a revolutionary in the cause of the Indian independence movement.




Barah Ghante -

'बारह घंटे', यशपाल का अपने पाठकों के लिए एक वैचारिक आमन्त्रण है। ईसाई समाज की पृष्ठभूमि में घटित इस उपन्यास के केन्द्र में विधवा विनी और विधुर फेंटम हैं जो कुछ विशेष परिस्थितियों में परम्पर भावनात्मक बंधन में बंध जाते हैं।

उपन्यास की नायिका विनी की ओर से इस वृत्तान्त को ‘पाठकों के सम्मुख एक अपील के रूप में’ रखते यशपाल इस उपन्यास के माध्यम से अनुरोध करते हैं कि ‘विनी को प्रेम अथवा दाम्पत्य निष्ठा निबाह न सकने का कलंक देने का निर्णय करते समय, विनी के व्यवहार को केवल परम्परागत धारणाओं और संस्कारों से ही न देखें। उसके व्यवहार को नर-नारी के व्यक्तिगत जीवन की आवश्यकता और पूर्ति की समस्या के रूप में तर्क तथा अनुभूति के दृष्टिकोण से, मानव में व्याप्त प्रेम की प्राकृतिक अनिवार्य आवश्यकता के रूप में भी देखें। वे पूछते हैं कि क्या नर-नारी के परस्पर आकर्षण अथवा दाम्पत्य सम्बन्ध को केवल सामाजिक कर्तव्य के रूप में ही देखना अनिवार्य है।

आर्यसमाजी वर्जनाओं और दृष्टि की तर्कपूर्ण आलोचना करने वाला, यशपाल का एक विचारोत्तेजक उपन्यास !


Barah Ghante, Yashpal has a conceptual invitation for his readers. In the background of Christian society, this center of this novel is Vini, the widow, who are engaged in Paramper emotional bonds under certain circumstances.

Keeping this story from Vini's perspective, Vini's 'an appeal to readers,' Yashpal requests through this novel that while making a decision to blame Vini for not enduring love or dutifulness, Vini do not look at the behavior of traditional concepts and rituals only. Also her behavior as the necessity of the personal life of male and female, and the concept of cognition as a problem of fulfillment, also see the natural essential requirement of love in human life. They ask if it is compulsory to see male-female interpersonal attraction or to have a relationship as a social duty only.





Divya -

दिव्या मार्क्सवादी चिन्तक और वैचारिक प्रतिबद्धता को बुद्धि का सर्वश्रेष्ठ अनुशासन माननेवाले कथाकार यशपाल के सरोकारों में भारतीय सामाजिक संरचना में स्त्री की यातना और व्यक्तित्व का प्रश्न हमेशा प्रमुख रहा है। ‘दिव्या’ (1945) में यशपाल ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में स्त्री की पीड़ा के सामाजिक कारणों की तलाश करते हैं। उनका मानना है कि ‘इतिहास विश्वास की नहीं, विश्लेषण की वस्तु है।...अतीत में अपनी रचनात्मक सामर्थ्य और परिस्थितियों के सुलझाव और रचना के लिए निर्देश पाती हैं।’ दिव्या में लेखक सागल के गणसमाज को केन्द्र में रखकर पृथुसेन, मारिश और दिव्या के माध्यम से तत्कालीन सामाजिक अन्तर्विरोधों की गहन पड़ताल करता है। न तो वर्णाश्रम व्यवस्था पर आधारित सामन्ती समाज ही स्त्री को सम्मान और सुरक्षा दे सकता है और न बौद्ध धर्म जो स्त्री के स्वतन्त्र व्यक्तित्व को ही शंका की निगाह से देखता है। अपनी प्रदत्त ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में दिव्या सामाजिक संरचना के मूल अन्तर्विरोधों को रेखांकित करते हुए अपनी तेजस्विता से परिवर्तन के लिए निर्णायक संघर्ष भी करती है। अपनी सन्तुलित सोच के साथ वह हमारे समकालीन नारी-विमर्श के लिहाज से भी एक विचारणीय प्रस्ताव लेकर आती है।




Faansi -




Ramrajya Ki Katha -
इस देश की जनता ने ब्रिटिश साम्राज्यशाही के शोषण और दासता से मुक्ति के लिए बहुत लम्बे समय तक संघर्ष किया है ! भारत की जनता के इस संघर्ष का नेतृत्व भारतीय मुख्यतः राष्ट्रीय कांग्रेस के हाथ में था ! भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का नेतृत्व प्रकट तौर पर गाँधी जी के हाथ में था इसलिए कांग्रेस की नीति गांधीवाद के सत्य-अहिंसा के सिद्धांतों के अनुकूल रही है ! भारतीय जनता के संघर्ष का उददेश्य कांग्रेसी राज बना देने के लिए गाँधी जी ने उसे 'रामराज्य' का नाम दे दिया था ! कांग्रेस के राज्य को रामराज्य का नाम देने का प्रयोजन था-भगवान राम को सत्य, न्याय और अहिंसा द्वारा अपने सभी दफ्तरों, अदालतों और जेलों में 'अहिंसा के अवतार' गाँधी जी के चित्र लटकाकर इन चित्रों के ही नीचे निराकुश और निस्संकोच रूप में धांधली और दमन करने में !
संभवतः कांग्रेसी सरकार गांधीवाद को सत्य प्रमाणित करने के लिए संसार को यह दिखाना चाहती रही कि रामराज्य की व्यक्तिगत स्वामित्व की और स्वामी वर्ग द्वारा दास वर्ग पर दया कर उसका पालन करने की नीति, समाजवाद की अपेक्षा अधिक सत्य है !





Woh Duniya -


This post contains more resources

You have to Login for download or view attachment(s). No Account? Register

x

Rate

Number of participants 1Money +85 Collapse Reason
Pedro_P + 85 Thanks for sharing.

View Rating Log

Reply

Use magic Report

You have to log in before you can reply Login | Join

Points Rules

Mobile|Dark room|CraxMe UA-106553710-1

5-6-2020 09:14 PM GMT+5.5

Powered by Discuz! X3

Release 20130801, © 2001-2020 Comsenz Inc.

MultiLingual version, Rev. 259, © 2009-2020 codersclub.org

Quick Reply To Top Return to the list