| |

Craxme.com

 Forgot password?
 Join
View: 318|Reply: 0
Collapse the left

[Hindi] Famous works of Jaishankar Prasad (जयशंकर प्रसाद की प्रमुख कृतियाँ)

[Copy link]
Post time: 10-11-2018 12:07:39
| Show all posts |Read mode
Edited by Inquisitor at 10-11-2018 12:08 PM

Jaishankar Prasad (30 January 1890  – 15 November 1937) was a famed figure in modern Hindi literature as well as Hindi theatre.

He is considered one of the Four Pillars (Char Stambh) of Romanticism in Hindi literature (Chhayavad), along with Sumitranandan Pant, Mahadevi Verma, and Suryakant Tripathi 'Nirala'. His dramas are considered to be most pioneering ones in Hindi. Prasad's most famous dramas include Skandagupta, Chandragupta and Dhruvaswamini .


Jaishankar Prasad's Kamayani (Hindi:कामायनी) (1936), a Hindi classic poem is considered as an important magnum opus of this school.The poem belongs to the Chhayavaadi school of Hindi poetry.


जयशंकर प्रसाद (30 जनवरी 1890 - 15 नवम्बर 1937), हिन्दी कवि, नाटककार, कहानीकार, उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। उन्होंने हिंदी काव्य में एक तरह से छायावाद की स्थापना की जिसके द्वारा खड़ी बोली के काव्य में न केवल कमनीय माधुर्य की रससिद्ध धारा प्रवाहित हुई, बल्कि जीवन के सूक्ष्म एवं व्यापक आयामों के चित्रण की शक्ति भी संचित हुई और कामायनी तक पहुँचकर वह काव्य प्रेरक शक्तिकाव्य के रूप में भी प्रतिष्ठित हो गया। बाद के प्रगतिशील एवं नयी कविता दोनों धाराओं के प्रमुख आलोचकों ने उसकी इस शक्तिमत्ता को स्वीकृति दी। इसका एक अतिरिक्त प्रभाव यह भी हुआ कि खड़ीबोली हिन्दी काव्य की निर्विवाद सिद्ध भाषा बन गयी। उन्हें 'कामायनी' पर मंगलाप्रसाद पारितोषिक प्राप्त हुआ था। उन्होंने जीवन में कभी साहित्य को अर्जन का माध्यम नहीं बनाया, अपितु वे साधना समझकर ही साहित्य की रचना करते रहे। कुल मिलाकर ऐसी बहुआयामी प्रतिभा का साहित्यकार हिंदी में कम ही मिलेगा जिसने साहित्य के सभी अंगों को अपनी कृतियों से न केवल समृद्ध किया हो, बल्कि उन सभी विधाओं में काफी ऊँचा स्थान भी रखता हो।

कामायनी हिंदी भाषा का एक महाकाव्य है, जिसके रचयिता जयशंकर प्रसाद हैं। यह आधुनिक छायावादी युग का सर्वोत्तम और प्रतिनिधि हिंदी महाकाव्य है। 'प्रसाद' जी की यह अंतिम काव्य रचना 1936 ई. में प्रकाशित हुई, परंतु इसका प्रणयन प्राय: 7-8 वर्ष पूर्व ही प्रारंभ हो गया था। 'चिंता' से प्रारंभ कर 'आनंद' तक 15 सर्गों के इस महाकाव्य में मानव मन की विविध अंतर्वृत्तियों का क्रमिक उन्मीलन इस कौशल से किया गया है कि मानव सृष्टि के आदि से अब तक के जीवन के मनोवैज्ञानिक और सांस्कृतिक विकास का इतिहास भी स्पष्ट हो जाता है।




This post contains more resources

You have to Login for download or view attachment(s). No Account? Register

x

Rate

Number of participants 2Money +30 Collapse Reason
vikash123vt + 5 Very nice!
Pedro_P + 25 Thanks for sharing.

View Rating Log

Reply

Use magic Report

You have to log in before you can reply Login | Join

Points Rules

Mobile|Dark room|CraxMe UA-106553710-1

5-6-2020 10:00 PM GMT+5.5

Powered by Discuz! X3

Release 20130801, © 2001-2020 Comsenz Inc.

MultiLingual version, Rev. 259, © 2009-2020 codersclub.org

Quick Reply To Top Return to the list