| |

Hi Craxers,

 

This week we will face a challenge of sharing the best self written short horror stories.

 

Challenge Starts Sunday, May 24 and ends Saturday, May 30

 

Participate now and get a chance to win the 'Storyteller' Medal & Karma.

 

Click below for details.

A week of Short Horror Story challenge

Craxme.com

 Forgot password?
 Join
View: 382|Reply: 0
Collapse the left

[Hindi] ध्रुवस्वामिनी - जयशंकर प्रसाद (Dhruvswamini by Jaishankar Prasad)

[Copy link]
Post time: 15-7-2018 13:54:34
| Show all posts |Read mode
ध्रुवस्वामिनी जयशंकर प्रसाद द्वारा रचित प्रसिद्ध हिन्दी नाटक है। यह प्रसाद की अंतिम और श्रेष्ठ नाट्य-कृति है।

इसका कथानक गुप्तकाल से सम्बद्ध और शोध द्वारा इतिहाससम्मत है। यह नाटक इतिहास की प्राचीनता में वर्तमान काल की समस्या को प्रस्तुत करता है। प्रसाद ने इतिहास को अपनी नाट्याभिव्यक्ति का माध्यम बनाकर शाश्वत मानव-जीवन का स्वरुप दिखाया है, युग-समस्याओं के हल दिए हैं, वर्तमान के धुंधलके में एक ज्योति दी है, राष्ट्रीयता के साथ-साथ विश्व-प्रेम का सन्देश दिया है। इसलिए उन्होंने इतिहास में कल्पना का संयोजन कर इतिहास को वर्त्तमान से जोड़ने का प्रयास किया है।

रंगमंच की दृष्टि से तीन अंकों का यह नाटक प्रसाद का सर्वोत्तम नाटक है। इसके पात्रों की संख्या सीमित है। इसके संवाद भी पात्रा अनुकूल और लघु हैं। भाषा पात्रों की भाषा के अनुकूल है। मसलन ध्रुवस्वामिनी की भाषा में वीरांगना की ओजस्विता है। इस नाटक में अनेक स्थलों पर अर्धवाक्यों की योजना है जो नाटक में सौंदर्य और गहरे अर्थ की सृष्टि करती है।


This post contains more resources

You have to Login for download or view attachment(s). No Account? Register

x

Rate

Number of participants 2Money +36 Collapse Reason
Meself + 25 Very nice!
Pedro_P + 11 Thanks for sharing. • Please, next time add a brief description of the book in English language so that you receive a better rate.

View Rating Log

Reply

Use magic Report

You have to log in before you can reply Login | Join

Points Rules

Mobile|Dark room|CraxMe UA-106553710-1

26-5-2020 06:42 PM GMT+5.5

Powered by Discuz! X3

Release 20130801, © 2001-2020 Comsenz Inc.

MultiLingual version, Rev. 259, © 2009-2020 codersclub.org

Quick Reply To Top Return to the list